NEET EXAM क्या होता है

neet exam logo

दोस्तों आपने NEET एग्जाम के बारे में बहुत बार सुना होगा आप सोच रहे होंगे कि यह NEET EXAM है क्या आखिरी क्यों हर साल चर्चा में रहता है और नीट एग्जाम देने के बाद क्या होता है आज हम इन्ही सवालों का जवाब पूरे विस्तार से बताने आए हैं।हम सभी लोग अपने बच्चों को पढ़ाते हैं और जब हम बच्चों से पूछते हैं कि बच्चे तुम क्या बनोगे आगे पढ़कर तो इन्ही में से  कुछ बच्चे कहते हैं कि मैं आगे चलकर एक डॉक्टर बनूंगा जी हां आप सही सुन रहे हैं नीट एग्जाम हर साल आयोजित किया जाता है यह एग्जाम क्लियर करने के बाद लड़कों को मेडिकल कॉलेजों में दाखिला मिल जाता है जो अच्छे  नंबर पाते है  उन्हें गवर्नमेंट कॉलेज मिलता है और जो कम नंबर लाते हैं प्राइवेट कॉलेज मिलता है।तो आइए हमारे साथ आज हम जानते हैं पूरे नीट एग्जाम को विस्तार रूप से-

NEET EXAM:-     NEET  का पूरा नाम  National  Eligibility  Entrance  Test है  जो हर साल NTA( National  Testing Agency) द्वारा आयोजित किया जाता है । NEET EXAM का आयोजन पहली बार 2013 में हुआ था जिसके माध्यम से बड़े-बड़े मेडिकल कॉलेजों में लड़कों का प्रवेश हुआ जो आगे चलकर एक अच्छी डॉक्टर बने।                                                                                                                                             

NEET एग्जाम देने के लिए योग्यता :- नीट एग्जाम देने के लिए आपको  फिजिक्स ,केमिस्ट्री ,बायो  में से कम से कम 50% के रिजल्ट के साथ  12 वीं में  पास होना आवश्यक है   वही उम्र की बात की जाए तो स्टूडेंट की उम्र 17 से 25 साल के बीच में होना चाहिए जिसमें  SC /ST/OBC को 5 साल उम्र का रिलैक्सेशन मिलता है जबकि जनरल कैटेगरी कैटेगरी को नहीं मिलता है। आप इस एग्जाम में तीन बार पेपर दे सकते हैं क्योंकि इसमें अधिकतम सीमा तीन बार ही रखी गई है  इसलिए इस एग्जाम को क्लियर करने के लिए आपको 11 वे  एवं 12  में अच्छे से पढ़ाई करनी चाहिए जिसमें फिजिक्स ,केमिस्ट्री , बायो का गहन अध्ययन होना चाहिए तभी यह एग्जाम आप से क्लियर हो  पाएगा ।      

NEET EXAM का पैटर्न क्या है :-  नीट का एग्जाम ऑफलाइन ही आयोजित किया जाता है यह  एग्जाम इंग्लिश ,हिंदी ,मराठी ,कन्नड़, ओड़िया  गुजराती ,तमिल, बंगाली ,आसामी में आयोजित होता है जिसमें एक भाषा इंग्लिश हमेशा इंग्लिश होती  है और दूसरी लोकल क्षेत्र के हिसाब से वहां की लैंग्वेज में  पेपर होता है यानी  यह  पेपर 2 लैंग्वेज में होता है। एग्जाम की सिलेबस की बात करें तो फिजिक्स केमिस्ट्री जूलॉजी और बॉटनी इन चारों से 45 -45 क्वेश्चन आते हैं जोकि MCQ   होते हैं हर क्वेश्चन 4 नंबर का होता है इस प्रकार हर एक सेक्शन 180 नंबर का होता है और टोटल 720 नंबर का पेपर होता है इसमें हम 600 के ऊपर नंबर लाते हैं तो हमें एक अच्छा  कॉलेज मिलने की संभावना बहुत अधिक है । 

NEET EXAM क्लियर करने के बाद क्या होता है:-  नीट एग्जाम क्लियर करने के बाद हमें काउंसलिंग करानी पड़ती है जिसमें हमारे सभी डॉक्यूमेंट का वेरिफिकेशन होता है और उस काउंसलिंग में हमें एक अच्छा  कॉलेज मिलता है अगर हमारा नंबर अच्छा है तो मैं अच्छा कॉलेज मिलता है अगर हमारा नंबर कम है तो हमें प्राइवेट कॉलेज मिलता है।

नीट एग्जाम क्लियर करने के बाद आप कौन-कौन से कोर्स में एडमिशन ले सकते हैं:-    कॉलेज के दौरान काउंसलिंग होते समय हम निम्न  कोर्स सिलेक्ट कर सकते हैं-

  • MBBS( Bachelor of Medicine and Bachelor of Surgery ): इसकी पढ़ाई करने में साढे 5 साल लगते हैं जिसमें 4.5  साल अकैडमी कोर्स तथा 1 साल इंटर्नशिप बहुत ही आवश्यक होता है
  • BDS(Bachelor of Dental Surgery): इस कोर्स का duration 5 साल होता है जिसमें 4 साल अकैडमी शिक्षा तथा 1 साल इंटर्नशिप आवश्यक होता है ।
  • BSMS(Bachelor of Siddha Medicine and Surgery): इस कोर्स का duration 5.5  साल होता है जिसमें 4.5  साल अकैडमी शिक्षा तथा 1 साल इंटर्नशिप आवश्यक होता है ।
  • BAMS( Bachelor of Ayurvedic Medicine and Surgery)
  • BHMS(Bachelor of Homoeopathic Medicine and Surgery):इस कोर्स का duration  5 साल होता है जिसमें 4 साल अकैडमी शिक्षा तथा 1 साल इंटर्नशिप में देना होता है।
  • BNYS(Bachelor of Naturopathy and Yogic Sciences): इस कोर्स का duration  5 साल होता है जिसमें 4 साल अकैडमी शिक्षा तथा 1 साल इंटर्नशिप में देना होता है।
  • BPT(Bachelor of Physiotherapy):इस कोर्स का duration   4.5 साल होता है जिसने सिक्स मंथ इंटर्नशिप करना होता है।
  • BMLT(Bachelor in Medical Laboratory Technology): इस कोर्स का duration  3 साल होता है ।
  • BUMS(Bachelor in Unani Medicine and Surgery): इस कोर्स का duration   4.5 साल होता है।
  • Bsc.  Nurshing (Bachelor of Science in Nursing)इस कोर्स का duration  3 साल होता है ।
  • B.Pharma(Bachelor of Pharmacy): इस कोर्स का duration   4 साल होता है।

यह सभी ऊपर दिए गए कोर्स अंडर ग्रेजुएट के अंदर आते हैं अगर आप  ग्रेजुएशन के बाद पोस्ट ग्रेजुएशन करना चाहते हैं तो आप को फिर से नीट का एग्जाम देना होगा पोस्ट ग्रेजुएशन  में निम्न कोर्स आते हैं-

  • MD(doctor of medicine): इस कोर्स का duration  3 साल होता है ।
  • MS(master of surgery): इस कोर्स की अवधि 4 से 5 साल है।
  • DNB(Diplomate of National Board):इस कोर्स का duration  3 साल होता है ।

MBBS   की पढ़ाई करने में कितना पैसा लगता है:

सरकारी स्कूल की बात करें  तो एमबीबीएस करने में एक  साल में 50,000 और पूरे 5 साल में 2.50 से 3 लाख लग जाते हैं वो भी पैसा स्कॉलरशिप के रूप में रिटर्न कर दिया जाता  वही प्राइवेट स्कूलों क बात करे तो  एमबीबीएस करने में 12से 15 लाख लग  जाते हैं। एक सामान्य और गरीब छात्र को नीट परीक्षा में अच्छे अंक लाने चाहिए ताकि आपको सरकारी कॉलेज मिल सके।

अगर आपको मेरी पोस्ट अच्छी लगी हो तो सब्सक्राइब बटन पर क्लिक करें ताकि आप रोजाना नई पोस्ट प्राप्त कर सकें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *